Sunday, February 7, 2010

मैं फिर वापस आऊंगा

चला जाऊंगा कभी अपना नाम करके,
तुम भी गर्व करोगे मुझे बलिदान करके
मेरे जाने का होगा जरुर अफ़सोस तुम्हे,
मगर मेरे अच्छे कर्मो का होगा संतोष तुम्हे
छोड़ जाऊंगा तुम्हारे कुछ अधूरे सपने,
संजो के रखा था तुमने जिसे दिल में अपने
क्या उन अधूरे सपनो को पूरा कर पाउँगा ?
हाँ, क्योकि तुम्हारे आँचल में, मैं फिर वापस आऊंगा
bobby

No comments:

Post a Comment

Sociable