Saturday, April 24, 2010

oh pooja


ग़मों ने घेर लिया है मुझे तो क्या ग़म है
मैं मुस्कुरा के जियूँगा तेरी ख़ुशी के लिये
कभी कभी तू मुझे याद कर तो लेती है
सुकून इतना सा काफ़ी है ज़िन्दगी के लिये


ये वक़्त जिस ने पलट कर कभी नहीं देखा
ये वक़्त अब भी मुरादों के फल लाता है
वो मोड़ जिस ने हमें अजनबी बना डाला
उस एक मोड़ पे दिल अब भी गुनगुनाता है


फ़िज़ायें रुकती हैं राहों पर जिन से हम गुज़रे
घटायें आज भी झुक कर सलाम करती हैं
हर एक शब ये सुना है फ़लक से कुछ् परियाँ
वफ़ा का चाँद हमारे ही नाम करती हैं


ये मत कहो कि मुहब्बत से कुछ नहीं पाया ये मेरे गीत मेरे ज़ख़्म-ए-दिल की रुलाई जिन्हें तरसती रही bobby की रंगीनी मुझ मिली है मुक़द्दर से ऐसी तन्हाई

bobby

No comments:

Post a Comment

Sociable